अयोध्या में 5 अगस्त को राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन होने वाला है. ज़ोर-शोर से तैयारी चल रही है. लेकिन इस आयोजन पर भी कोरोना का खतरा मंडराता नज़र आ रहा है. 3 अगस्त को राम मंदिर के एक पुजारी की कोरोना रिपोर्ट पॉज़िटिव आई. पुजारी का नाम है प्रेम कुमार तिवारी. प्रधान पुजारी सत्येंद्र दास ने ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ से इस बात की पुष्टी की. उन्होंने कहा,

“ये चिंताजनक है. प्रेम कुमार तिवारी उस टीम का हिस्सा हैं, जो यहां रोज़ाना अनुष्ठान करने में शामिल है.”

इससे पहले अयोध्या में ही 30 जुलाई को एक और सहायक पुजारी समेत 14 पुलिसवाले कोरोना पॉज़िटिव पाए गए थे. पुजारी का नाम प्रदीप दास है. वह प्रधान पुजारी सत्येंद्र दास के शिष्य हैं. आचार्य सत्येंद्र दास का भी कोरोना टेस्ट हुआ था, नतीजा निगेटिव आया था.

ट्रस्ट अधिकारियों के मुताबिक, कई पुजारियों और वर्कर्स का कोरोना टेस्ट करवाया गया था, इनमें प्रधान पुजारी भी शामिल थे. सीनियर डिस्ट्रिक्ट अधिकारियों का कहना है,

“हमने बड़ी संख्या में लोगों का कोरोना टेस्ट कराया है और हम सभी ज़रूरी सावधानियां बरत रहे हैं. हमें नहीं लगता कि इस इवेंट (भूमि पूजन) में कोई खतरा है.”

‘हिंदुस्तान टाइम्स’ की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रस्ट के साथ का करने वाले प्रकाश शर्मा का कहना है,

“सभी प्रमुख त्यौहार आए- जैसे अप्रैल में राम नवमी सेलिब्रेशन, हमने ईद भी मनाई, तो हमें इसे (जन्म भूमि पूजन) क्यों नहीं मनाना चाहिए.”

अयोध्या में दर्शन हॉस्पिटल को मुख्य कोविड हॉस्पिटल बनाया गया है. राम जन्मभूमि से सात से आठ किलोमीटर की दूरी पर है. अयोध्या जिला अस्पताल में सिर्फ कोरोना टेस्ट किया जाता है. वहां कोविड मरीजों को भर्ती नहीं किया जाता है.

पीएम मोदी शामिल होंगे

अयोध्या में भूमि पूजन को लेकर तैयारियां तेज हैं. 5 अगस्त को भूमि पूजन है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कार्यक्रम में शामिल होने की रजामंदी दे दी है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह इसमें शामिल नहीं होंगे, वो कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. खैर, जन्म भूमि पूजन की तारीख पर फैसला अयोध्या में 18 जुलाई को हुई बैठक में लिया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here