उत्तर प्रदेश की टेक्निकल एजुकेशन मिनिस्टर कमल रानी वरुण का 2 अगस्त को निधन हो गया. वे कोरोना पॉज़िटिव थीं और लखनऊ के पीजीआई में उनका इलाज चल रहा था. कमल रानी 62 साल की थीं.

कमल रानी को कुछ दिन से बुखार आ रहा था. टेस्ट कराया तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई. इसके बाद उन्हें पीजीआई में भर्ती कराया गया था. उन्हें लगातार सांस लेने में तकलीफ आ रही थी. जिसकी वजह से आईसीयू में रखा गया था. शनिवार रात से तबीयत ज़्यादा बिगड़ने लगी और रविवार सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली.

उनके निधन पर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट किया. लिखा-

“उत्तर प्रदेश सरकार में मेरी सहयोगी, कैबिनेट मंत्री श्रीमती कमल रानी वरुण जी के असमय निधन की सूचना व्यथित करने वाली है. प्रदेश ने आज एक समर्पित जननेत्री को खो दिया. उनके परिजनों के प्रति मेरी संवेदनाएं. ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान प्रदान करें.”

इसके अलावा यूपी कांग्रेस ने भी ट्वीट किया –

“बेहद दु:खद खबर. उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री श्रीमती कमल रानी वरुण का आज निधन हो गया. वो कोरोना से संक्रमित थीं. विनम्र श्रद्धांजलि. ईश्वर इस दुख की घड़ी में उनके परिजनों को दुख सहने का साहस दें.”

अभी एक रोज़ पहले ही एक अगस्त को उत्तर प्रदेश के ही एक और बड़े नेता अमर सिंह का भी निधन हो गया था. उनका भी स्वास्थ्य काफी समय से गड़बड़ चल रहा था. कमल रानी ने ट्वीट करके अमर सिंह के निधन पर शोक भी जताया था. उन्होंने लिखा था कि बहुत ही दुःखद समाचार प्राप्त हुआ कि राज्यसभा सांसद श्री अमर सिंह जी का निधन हो गया. उनके इस असामयिक निधन पर मैं शोक व्यक्त करती हूं. दुख की घड़ी में उनके परिजनों और सहयोगियों के प्रति संवेदना व्यक्त करती हूं और दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करती हूं.

इसके अलावा रीता बहुगुणा जोशी ने भी ट्वीट करके कमल रानी वरुण के निधन पर शोक व्यक्त किया है.


सपा के पूर्व नेता अमर सिंह का सिंगापुर में इलाज के दौरान निधन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here